Blog

शनि शांती के 7 उपाय : यह उपाय कर लिए तो शनि देव प्रशंन्न हो गए

शनि शांति के 7 उपाय: ब्रह्मांड के अधिनायक ब्रह्मांड के राजकुमार या फिर ब्रह्मांड के खजांची ही क्यों ना हो जब शनि ग्रह की बात आती है, तो वह भयभीत हो जाते हैं.किंतु शनि शांति के 7 उपाय आपको शनि की परेशानी से राहत जरूर देंगे. सब लोग जानते हैं, कि न्याय के देवता, समस्त जगत में न्यायाधीश की उपाधि लेकर स्थित है.

शनि शांती के 7 उपाय के बारे में बताये तो वह स्वयं शनिदेव यदि कुंडली में 12 भाव में से किसी भी जगह स्थित होते हैं, तो जातक की कुंडली में किसी न किसी तरह से चाहे युति से हो या प्रतियुति से हो  या फिर दशा में अंतर्दशा में  की साढ़ेसाती में  वहां पर शुभ और अशुभ फल हमेशा प्रदान करते हैं.

 

शनि शांती के 7 उपाय
शनि शांती के 7 उपाय

क्योंकि जब शनि का प्रकोप इंसान पर पड़ता है, तो वह हैरान परेशान हो जाता है,जीवन में अचानक से परेशानी आती है यदि वह विद्यार्थी जातक होता है तो शिक्षा प्राप्ति में कमी या फिर रुकावट आती है. यदि शिक्षा उत्तीर्ण हो जाते हैं फिर भी उन्हें अच्छी जगह नौकरी नहीं मिलती. नौकरी मिलती है तो वह कष्टकारी नौकरी मिलती है. जिस व्यवसाय कंपनी में कार्य से जुड़ने का मौका मिलता है तो इसके लिए शनि शांती के 7 उपाय.

तो वहां पर मानसिक त्रस्त रहते हैं. यदि खुद का व्यवसाय भी प्रारंभ करते हैं. तो वहां पर उनको नुकसान ही होता है. जितनी मेहनत करता है उतना फल प्राप्त नहीं होता है. यदि कोई बिजनेसमैन व्यापारी है तो वह हमेशा घाटे में रहता है. यानी कि  मेहनत के हिसाब से जितना कार्य करता है उसका उचित धन मिलना चाहिए, वह नहीं मिल पाता है. तो वही वह जातक सुख से वंचित रह जाता है.कार्य के  लिए दर-दर की ठोकरें खाता रहता है घूमता रहता है .

अद्भुत अनुकूलता No.1: धनु राशि और कर्क राशि – Excellent No.1 Compatibility: Sagittarius and Cancer

हम आपको ऐसे महा उपाय बताने जा रहे हैं जिसे करने से शनि की पीड़ा को तो कम किया जा सकता है किंतु शनिदेव को प्रसन्न भी किया जा सकता है और इन 7 उपायों करने से आपके जीवन में सकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है. जिन्हें आप  टोटके भी कह सकते हैं, या फिर इन्हें प्रयोग भी कह सकते हैं, जो हमारे शास्त्रों में पुराणों में बताए गए हैं, जिसके करने से शनि का प्रकोप भी शांत हो जाता है, तो शनि की ढैया में भी लोगों को शुभ फल प्राप्त  होते हैं, आइए जानते हैं शनि को प्रसन्न करने के लिए अद्भुत और शीघ्र प्रभाव कारी इन शनि शांति के 7 महा प्रयोग.

शनि शांती के 7 उपाय
शनि शांती के 7 उपाय

   शनिदेव हमेशा अधर्मी और पाप करने वाले लोगों को पीड़ित करता है ,इसीलिए यदि आपने भी जीवन में अधर्म का सहारा लिया है, पाप किया है, तो उनकी निवृत्ति के लिए आपको काली गाय की सेवा करनी चाहिए ऐसा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं, काली गाय की परिक्रमा करके गाय को बूंदी के पांच लड्डू खिलाने चाहिए.

 

2   यदि आपकी कुंडली में शनि देव चौथे आठवें बारहवें या फिर नौवें भाव में विराजमान होते हैं तो आपको शनि दोष की शांति वैदिक  तरीके से करनी चाहिए, जिसके कारण आपकी कुंडली में शनि दोष निवृत्त होता है.

 

3 शनिदेव की प्रसन्नता के लिए विशेष तौर पर शनिवार के दिन आपको उपवास रखना चाहिए शनिवार को व्रत करना चाहिए और जिस दिन यानी कि शनिवार के दिन आप ने उपवास रखा है तो शाम को यानी कि सूर्यास्त के समय पीपल के पेड़ के पास सिंदूर काले तिल मोतीचूर के लड्डू और काला कपड़ा रखना चाहिए.

 

4 राशि चक्र की कुंडली में 12 भाव में से कहीं भी शनि ग्रह के साथ राहु विराजमान होते हैं, या फिर शनि ग्रह के साथ केतु विराजमान होते हैं, तो आपको श्रापित योग निवारण करवाना चाहिए, क्योंकि जिन की भी कुंडली में शनि एवं राहु की युति होती है, या फिर शनि एवं केतु की युति होती है, तो श्रापित योग बनता है, जिसके कारण जातक जीवन भर मेहनत करने के बावजूद भी कभी भी सुखी नहीं हो पाता, इनके लिए केवल एक ही रास्ता बच जाता है वैदिक तरीके से श्रापित योग का निराकरण  करना वह भी पैतृक पद्धति से.

कैसी होगी: वृषभ राशि और कन्या राशि की अनुकूलता No.1 ? – Taurus and Virgo: Compatibility No.1

5  दूसरे तीसरे भाव में शनि की स्थिति जातक को मद्यपान के कारण एवं अन्य पदार्थों के कारण सर्वनाश भी कर सकती है  इसीलिए  शनिदेव के प्रकोप से बचने के लिए शनिवार के दिन सुबह काले कुत्ते को दो रोटी खिलाएं बहते हुए पानी में काले तिल बहाए और शनिवार के दिन काले कपड़े धारण कीजिए, काले वस्त्र नहीं है तो रुमाल भी रख सकते हैं.

 

6 शनि शांति के टोटके यह अद्भुत टोटका जो आपकी सभी बाधाओं को दूर कर सकता है. शनिवार के दिन सुबह प्रातः काल में स्नान एवं  नित्य प्रवृत्ति से निवृत्त होकर लाल आसन पर विराजमान होकर, हनुमान जी की तस्वीर के सामने बैठकर 108 हनुमान चालीसा का पाठ करें. शाम को बंदरों को लड्डू खिलाए और अपने घर के आगे काले घोड़े की नाल रखें.

https://youtu.be/JlmhBWucpZY

7  शनि के कुप्रभाव को दूर करने के लिए पानी भरा हुआ श्रीफल शनिवार के दिन सिर के ऊपर से उतारकर तालाब या बहते हुए पानी में बहाए, तदुपरांत पीपल के पेड़ के नीचे शाम को सरसों के तेल का दीपक जलाएं.

 

ऊपर दिए गए टोटके एवं वैदिक विधान एस्ट्रोलॉजर की सलाह लेकर करने से विशेष फल मिलता है. 

1 comment

Leave A Comment